प्राचार्य का संदेश -

User profile picture

डॉ. ( श्रीमती ) पूनम भार्द्वाज

प्रिंसिपल

  • कर्मचारी कोड 7546
  • डी.ओ.जे. वर्तमान स्टेशन 24-08-2016
  • डी.ओ.जे. वर्तमान पद 12-10-2010
  • प्रिय अभिभावक, नमस्कार,

    मैंने केंद्रीय विद्यालय, सेक्टर-22, रोहिणी, में दिनांक 24.08.2016 अपराहन को कार्यभार ग्रहण किया है तथा मैं चाहती हूँ कि हम और आप एक सामूहिक प्रयास के द्वारा इस विद्यालय के विद्यार्थियों का उचित मार्गदर्शन व विकास करें तथा विद्यार्थियों की उन्नति में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें| विधार्थियों को नयी सफलताओं की ओर ले जाने के लिए हम सभी शिक्षक विद्यालय स्तर पर तथा आप सभी अभिभावक पारिवारिक स्तर पर बच्चों की सहायता कर सकते है. विद्यार्थियों, अभिभावकों तथा शिक्षकों के त्रिकोणीय संबंध से ही शिक्षा की समग्रता सम्पन्न होती है. मेरा तथा मेरे सभी साथियों का यह भरसक प्रयास रहेगा कि हमारे विधार्थी निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर रहें. लेकिन विद्यार्थियों की उन्नति आपके सहयोग के बिना संभव नहीं है| अत: मैं आप सबसे विद्यार्थियों के सर्वंगीण विकास में सहयोग करने की अपील करती हूँ तथा निन्म बिन्दुओं पर आपका विशेष ध्यान चाहती हूँ |

    • विद्यार्थियों को समय से विद्यालय भेजे तथा समय से उन्हें विद्यालय से वापिस ले जाना सुनिश्चित करें |
    • बच्चों को पौष्टिक नाश्ता करा कर विद्यालय भेजे तथा साथ में भोजन व् पानी अवश्य दें |
    • बच्चों की यूनिफार्म, परिचय पत्र, पुस्तकें, कापी, स्टेशनरी, रुमाल आदि के ध्यान रखें | 
    • विद्यालय में विद्यार्थियों का मोबाईल लेकर आना वर्जित है| अत: बच्चों को मोबाईल न दें | 
    • बच्चों को आवश्यकतानुसार ही रुपया-पैसा दें तथा कीमती वस्तुएं, घडी, जेवर आदि देकर विद्यालय न भेजें | 
    • बच्चों की व्यक्तिगत स्वच्छता तथा बैग आदि की स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें तथा उनकी पुस्तकें, कापियों, बैग आदि की स्वच्छता व् सुरुचिपूर्णता का विशेष ध्यान रखें | 
    • बच्चों का स्वास्थ्य ठीक न होने की दशा में उन्हें विद्यालय य भेजे तथा अचानक विद्यार्थी की तबियत ख़राब होने की दशा में, विद्यालय से सूचना जाने पर बच्चे को लेने माता या पिता ही आएं | किसी अन्य को भेजने की स्थिति में साथ में अथोरिटी लेटर (Authority Letter) अवश्य दें, जिससे बच्चे की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके |
    • माता-पिता अपने बच्चे के साथ प्रतिदिन कुछ समय (Quality Time) अवश्य बिताएं तथा उसकी भावनाओं, इच्छाओं, आशंकाओं व परेशानियों को मित्रवत समझने का प्रयास करें |
    • बच्चों को अच्छे संस्कार देने का प्रयास करें. देशप्रेम व नैतिक मूल्यों का बीजारोपण करने की कोशिश करें तथा स्वयं भी उनके लिए एक आदर्श स्थापित करें | यथासंभव प्रयास करें कि बच्चे Internet का दुरूपयोग न करें व अनावश्यक रूपेण अपना बहुमूल्य समय Facebook, twitter, whatsapp आदि पर व्यर्थ न करें | 
    • अपने बच्चों की शैक्षिक प्रगति का विशेष ध्यान रखें तथा समय समय पर सभी शिक्षकों से मिलकर उनकी प्रगति का मूल्यांकन करते रहें. (PTM) शिक्षक अभिभावक गोष्ठी में उपस्थित होने के लिए अपने व्यस्त जीवन में से थोडा समय अवश्य निकालें |

    मुझे पूर्ण विश्वास है कि इन छोटी छोटी बातों का ध्यान रख कर हम बड़े बड़े लक्ष्य प्राप्त कर सकते है | आशा है कि आप सभी अभिभावक इस पुनीत कार्य में विद्यालय का सहयोग करेंगे, जिससे हम नयी पीढ़ी को उचित मार्गदर्शन देने के अपने कर्तव्य को अच्छी तरह निभा सकें |